50 हजार रूपये देने से इंकार करने पर दारोगा ने वायरल किया वीडियोे

पीलीभीत। पूरनपुर थाने के अंदर पुलिस मौजूदगी में छात्रा द्वारा की गई शोहदे की पिटाई मामले में भले ही एसपी ने प्रशिक्षु दारोगा को लाइन हाजिर कर दिया हो, पर दारोगा की मुश्किलें कम नहीं हो सकी है। पचास हजार रूपए की रिश्वत की खातिर पहले दारोगा ने वीडियो क्लिप बनाई, इसके बाद रूपए देने में असमर्थता जताने पर वीडियो को इंटरनेट पर वायरल कर दिया गया। यही नहीं घटना में शामिल दूसरे युवक को निर्दाेष बताकर रिहाई देने की बात पर भी पुलिस को घेरा गया है। छेड़छाड़ के आरोपी युवक के परिवार वालों ने दारोगा पर मोटी रकम वसूलने के लालच में घटना को बड़ा बनाने का आरोप लगाया है। इसके अलावा घटना के दिन से लापता चल रहे आरोपी युवक के साथ अप्रिय वारदात होने पर खाकी को जिम्मेदार ठहराने की बात कही। सीओ जहानाबाद के समक्ष पेश होकर आरोपी युवक के परिवार वालों ने निष्पक्ष जांच कराने की मांग की है।
– दूसरे युवक की रिहाई पर भी पुलिस पर उठाए सवाल

– परिजन बोले, घटना से लापता है युवक, अनहोनी होने पर खाकी होगी जिम्मेदार

– सीओ जहानाबाद के समक्ष पेश होकर शोहदे के परिवार ने लगाए आरोप

– पूरनपुर थाने में पुलिस मौजूदगी में छात्रा द्वारा शोहदे की पिटाई का मामला
बता दें कि तीन जुलाई को पूरनपुर थाने के अंदर एक छात्रा द्वारा मनचले युवक की जमकर पिटाई लगाई गई थी। इसका वीडियो चंद मिनट बाद ही नेट पर वायरल हो गया। जिसके बाद वीडियो बनाने एवं छात्रा को रोकने के बजाए तमाशबीन बनने के आरोप में एसपी ने थाने पर तैनात प्रशिक्षु एसआइ सिद्धार्थ गोस्वामी को लाइन हाजिर कर दिया था। पूरे मामले की जांच अपर पुलिस अधीक्षक सुधीर कुमार सिंह द्वारा की जा रही है। इधर परिवार वालों के अनुसार घटना के बाद से युवक के लापता होने की बात कही जा रही है। जिसमें युवक के साथ अप्रिय वारदात होने पर खाकी को जिम्मेदार ठहराए जाने की बात परिवार कर रहा है। इसके लिए मानवाधिकार आयोग को भी पत्र भेजा गया है। गुरूवार को प्रकरण में नया मोड़ सामने आया है। आरोपी युवक के परिवार वाले सीओ जहानाबाद से मिलने पहुंचे और घटना को छेड़छाड़ नहीं बल्कि आपसी गाली गलौच का बताया। सीओ को दिए पत्र में कहा गया कि गाली गलौच के आरोप में पकड़े जाने के बाद पूरनपुर पुलिस ने घटना को छेड़छाड़ बना दिया। आरोप लगाया कि दारोगा सिद्धार्थ कुमार ने युवक को छोड़ने के लिए पचास हजार रूपए की मांग की थी। इसे देने से इंकार करने पर दारोगा ने छात्रा को दुबारा घर से बुलाया। जिसके बाद पीडि़त के पुत्र को हवालात से बाहर निकलवाकर जमकर पिटवाया। इसकी वीडियो क्लिप भी दारोगा ने बनाई। कहा गया कि अगर पचार हजार रूपये नहीं दिए तो वीडियो क्लिप नेट पर डालकर बदनाम कर देगा और ऐसा ही हुआ है। पुलिस दबाब में समझौता नामा पर हस्ताक्षर करने की बात कही। इसके अलावा जिस साथी युवक को पुलिस बेगुनाह बताकर छोड़ने की बात कह रही थी। उसकी रिहाई पर भी सवाल खड़े किए है। परिजनों का कहना है कि दरअसल पुलिस ने मोटी रकम वसूलने के बाद दूसरे युवक को छोड़ दिया। अगर वह बेकसूर था तो उसकी बाइक सीज क्यों की गई है। दारोगा एवं उसका साथ देने वाले अन्य पुलिसकर्मियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने एवं निष्पक्ष जांच की मांग की गई है।

एसपी जितेन्द्र कुमार शाही का कहना है कि पूरनपुर प्रकरण की जांच एएसपी द्वारा कराई जा रही है। आरोपी दारोगा को प्रारंभिक जांच में दोषी पाए जाने पर लाइन हाजिर किया जा चुका है। युवक के परिवार वालों की तहरीर की जांच भी एएसपी से कराई जाएगी, जो भी दोषी पाया गया उस पर कार्रवाई तय है। लापता युवक को तलाषने के लिए भी पुलिस को निर्देष दिए गए है।

shukla1

Vaibhav Shukla, Principle correspondent

Pilibhit Live Bureau

5 thoughts on “50 हजार रूपये देने से इंकार करने पर दारोगा ने वायरल किया वीडियोे

  1. Ajay

    It’s very bad for money they do like that. No body can take law in hand. Why this girl? Hope Police will take it seriously. And do required for justice with girl and boy also. We knew that did wrong with girl but police also wrong here.

    Reply
  2. bhuvnesh kashyap

    पैसों के लिए जो अपना ईमान बेच दे और किसी की जिंदगी बर्बाद कर दे, ऐसे सरकारी नौकरों को तो आजीवन कारागार में डाल देना चाहिए।
    युवक अगर बदनामी के डर से गायब है , तो वो सिर्फ वीडियो क्लिप की बजह से , आज सारा देश उस वीडियो को देख रहा है।
    माना लड़की का पीटना सही था पर वीडियो क्लिप बनाना गलत था।
    कानून के रखवाले ही अगर कानून तोड़े तो आम जनता भी क्या करे???

    Reply
  3. shailendra

    I think bechare us ladke ke sath bahot galt hua hai iski saja ish ladki or police ko milni chaheye

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *